BANC 133 ASSIGNMENT QUESTION WITH ANSWER IN HINID 

Arrow

क. सामाजिक और सांस्कृतिक मानवविज्ञान की प्रासंगिकता पर चर्चा करें।

उतर: सामाजिक और सांस्कृतिक मानवविज्ञान की प्रासंगिकता: मानवशास्त्रीय सिद्धांत में यह भी स्वीकार

किया जाता है कि वास्तविक सामाजिक स्थितियाँ सतह पर नहीं दिखाई देती हैं, बल्कि दृश्य वास्तविकता के नीचे

गहरी परतों में होती हैं, और वास्तविक कारणों को देखने के लिए किसी को गहराई तक जाना

पड़ सकता है। यही कारण है  कि मानवशास्त्रीय विधियों के लिए किसी विशेष स्थिति या  'क्षेत्र के

दीर्घकालिक और लगे हुए अध्ययन की आवश्यकता  होती है।..........

CLICK BELOW FULL FREE ASSIGNMENT

Man Reading